28 Oct 2016

फिलहाल एक कहानी

आज बहुत शोर हैं बाहर,
मोहोल्ला हुआ हैं खूब रोशन |
इस रौश्नी और धुए मे,
न जाने तारे कहाँ गुम हो गये |


अजी चाँद तारों की बातें फ़िज़ूल,
हमे खुदसे गुम हुए सदिया बीत गयी |
फिलहाल एक कहानी ही सुनलो
शायद गुम हुए तारे वापस लौट आए |


My novella, The Last Nomad, released on 25th September, is an invitation to meet your true story. 

To participate in The True Story I Met contest and win a copy of book visit: Facebook/TheLastNomad

Share this post and help me spread the word.

- हेरंब
ISupportNAAM

No comments: